भाजपा ने यूपी में रचा इतिहास, 37 सालों बाद लगातार दूसरी बार दर्ज की जीत

भाजपा ने यूपी में रचा इतिहास, 37 सालों बाद लगातार दूसरी बार दर्ज की जीत

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा ने बड़ी जीत दर्ज कर इतिहास रच दिया है। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने 37 साल बाद दोबारा सरकार बनाकर इतिहास रचा। यूपी में बुल्डोजर बाबा के नाम से प्रसिद्धि पाने वाले योगी आदित्यनाथ ने फिर से एक बार भाजपा का परचम लहराया और भाजपा की जीत में सारथी बने। 

भाजपा के जीत के बड़े कारण

आपको बता दें कि 2017 में भाजपा ने विकास के मुद्दे पर यूपी में चुनाव लड़ा और बड़ी जीत दर्ज कर सरकार बनाई। इस बार जनता द्वारा भाजपा को चुने जाने के कई कारण हैं। उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था में सुधार को जनता ने सराहा है। कोरोना काल में जब पूरी दुनिया में तबाही मची हुई थी तब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने मुफ्त राशन और फ्री वैक्सीन की डोज लोगों को मुहैया कराई, जो वास्तविक रूप में भाजपा की जीत का कारण बना। 

योगी सरकार ने अवैध कब्जों पर बुलडोजर चलाने से लेकर उत्तर प्रदेश को दंगा मुक्त और माफियाओं के दबदबे को कम करने का काम किया, इस कारण लोग अब सुरक्षित महसूस कर रहे हैं, जो चुनाव के वक़्त साफ़ साफ़ देखा गया। उत्तर प्रदेश में बड़ी जीत का एक अहम कारण हिंदुत्व भी रहा। भाजपा ने विपक्ष के सभी आरोपों के बावजूद हिंदुत्व के मुद्दे को कम नहीं होने दिया और पूरे चुनाव के दौरान मुद्दा हिंदुत्व के आस पास ही रखा। जनता ने भी भारत में मंदिरों के जीर्णोद्धार को काफी पसंद किया, जिसका फायदा भाजपा को इस चुनाव में देखने को मिला। 

इसके अलावा उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मोदी फैक्टर ने भी जीत दिलाने में काफी मदद की। यूपी चुनाव में भाजपा का परचम लहराने में प्रधानमंत्री आवास योजना, किसान सम्मान निधि, शौचालय, आयुष्मान भारत और उज्ज्वला जैसी योजनाओं का खास योगदान रहा, जो इस चुनाव में वोट में तब्दील होता नजर आया। 

भाजपा की जीत का सबसे बड़ा और अहम कारण कहीं न कहीं कमजोर विपक्ष रहा। विपक्ष ने हर मुद्दे पर भाजपा का निशाना साधा मगर चुनावी संग्राम शुरू होने के पहले कहीं भी जमीनी स्तर पर काम नहीं किया। इस चुनाव में भाजपा और समाजवादी पार्टी की सीधी टक्कर जरूर देखने को मिली मगर वोटों में तब्दील होती नहीं दिखी। समाजवादी पार्टी के अलावा इस बार कांग्रेस ने भी अपना पूरा दमखम लगाया। इस बार पार्टी की कमान प्रियंका गांधी ने संभाली और लड़की हूं, लड़ सकती के नारे के साथ मैदान में उतरी मगर ये नारा भी कांग्रेस के काम न आया और कांग्रेस का प्रदर्शन पिछले बार की तरह ही सीमित रहा। वहीं बसपा इस बार शुरू से कहीं दिखी ही नहीं। 

भाजपा के 11 मंत्री हुए फेल

योगी आदित्यनाथ के 11 मंत्री यूपी में BJP की ऐतिहासिक जीत के बाद भी अपनी सीट नहीं बचा पाए। इनमें सबसे बड़ा नाम उत्तर प्रदेश में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या का रहा, जिन्हें सपा गठबंधन की उम्मीदवार पल्लवी पटेल ने हराया। इसके अलावा गन्ना मंत्री सुरेश राणा, ग्रामीण विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह, मंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय, आनंद स्वरूप शुक्ला, खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी, मंत्री रणवेन्द्र सिंह धुन्नी, बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी, लखन सिंह राजपूत और संगीता बलवंत जैसी बड़ी हस्तियां अपनी साख नहीं बचा पायी।

Click Here To Download – Magazine(PDF): News Bucket Magazine

Join Our WhatsApp Group: Click Here

न्यूज़ बकेट हिंदी मासिक पत्रिका एवं यूट्यूब पर विज्ञापन और अपने पते पर मैगज़ीन प्राप्त करने के लिए 9807505429, 8924881010, 9839515068 पर संपर्क करें।

Vikas Srivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published.