पानी को साफ़ करने के उपाय

पानी को साफ़ करने के उपाय

पानी जो कि जीवन का आधार होता है। आप भोजन के बिना कम से कम एक माह तक जिंदा रह सकते है पर पानी के बिना तो आप एक हफ्ते से ज्यादा जिन्दा नहीं रह सकते है। पानी न ही सिर्फ पीने के लिए बल्कि खाना बनाने, नहाने, कपड़े धोने, घर साफ़ करने आदि सभी कामों के लिए पानी की ही आवशयकता होती है।

पानी तो हमारे लिए जरूरी होता ही है पर पानी का साफ और स्वच्छ होना बहुत जरूरी है। हमारे लिए उतना ही जरूरी होता ही है। अशुद्ध जल को शुद्ध करके इस्तेमाल करना क्योंकि असुद्ध जल से हमे तरह तरह की बीमारिया हो जाती है तो चलिए हम आपको बता देते है घर पर पानी सुध करने के कुछ आसान घरेलू नुस्ख़े जो की इस प्रकार से है…

पानी को उबालना – पानी को उबाल कर इस्तेमाल करना सबसे अच्छा और आसान उपाय है। पानी को गर्म करके पीने से उसमे जो कीटाणु उत्पन्न होते है वो मर जाते है। पानी को शुद्ध और कीटाणु रहित बनाने के लिए कम-से-कम उसे २० मिनट उबालना चाहिए।

ब्लीचिंक पाउडर करना – पानी को कीटाणुरहित करने के लिए ब्लीचिंक पाउडर काफी उपयोगी माना जाता है। इससे सभी तरह के बैक्टीरिया मर जाते हैं। ब्लीचिंग पाउडर बड़े और छोटे दोनों तरह के पानी शुद्ध करने के संयंत्र में इस्तेमाल होता है और घर में भी इसका इस्तेमाल पूरी तरह से सुरक्षित है। घर में इस्तेमाल के लिए यह गोलियों या द्रव के रूप में मिलता है। ये गोलियॉं या घोल पानी में डाले जाते हैं। एक गोली २० लीटर पानी के लिए पर्याप्त है। इसके ३० मिनट बाद पानी इस्तेमाल किया जा सकता है। गॉंवों में स्रोत पर ही पानी को कीटाणु रहित कर देना ठीक होता है। इससे लोगों के समय और पैसे दोनों की बचत हो सकती है। लेकिन अक्सर महामारी फैलने के बाद ही इसके कारण लोग सजग होते हैं।

तुलसी की पत्तियो से पानी को सुध करना – तुलसी की पत्तियो के प्रयोग से भी दुषित पानी को शुद्ध किया जाता है क्योंकि इसके प्रयोग से पानी में एक अनोखी शक्ति भर जाती है। सबसे पहले आपको दूषित पानी लेना है उसके बाद उसमे तुलसी की पत्तिया को डाल देना है कुछ समय बाद तुलसी की पत्तिया उसमे घुल जाती है और उसकी खुशबु पानी में फ़ैल जाती है जिससे की तुलसी में एक आंतरिक शक्ति होने के कारणवश उसके आसपास के सारे कीटाणु या बेक्टेरिया मर जाते है इसके अलावा इससे  मलेरिया, प्लेग और क्षय के कीटाणु नष्ट हो जाते है और कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है |

पानी में टीडीएस – पानी में टीडीएस की मात्रा पानी के शूद्धिकरण को स्पष्ट करती है इसलिए फ़िल्टर प्लांट में पानी को स्वच्छ करने के बाद पानी में टीडीएस चेक करने की एक अद्भुत प्रक्रिया है जिसके माध्यम से आप पानी में जनित कीटाणुओ का पता लगा सकते है | 

फिटकरी से पानी साफ करना – गंदगी को साफ करना फिटकरी का बेहतरीन गुण है। इसका प्रयोग पीने के पानी को साफ करने के लिए किया जाता है, ताकि पानी में मौजूद कीटाणु खत्म हो जाएं और पानी साफ हो जाए। इसके अलावा त्वचा की सफाई के लिए भी फिटकरी का उपयोग किया जाता है।

पानी फिल्टर मशीन – जैसा की हम सभी जानते है पानी को फ़िल्टर करने के लिए मशीन का प्रयोग होता है। जिससे की आपका पानी दूषित नही होता तो आज हम को बताते है की पानी को फ़िल्टर करने के लिए आप किस चीज़ का इस्तेमाल करते है और क्या है इस चीज़ का इस्तेमाल –

आर ओ वाटर – आजकल के ज़माने में कई लोग रिवर्स आसमोसिस प्रोसेस यानी आरओ का इस्तेमाल करते है क्योंकि कई टेक्निकल कंपनियो द्वारा इस प्रोडक्ट को बनाया जाता है यह एक ऐसी तकनीक है जिसमे की पानी एक बहुत ही तेज़ दबाव के कारणवश साफ़ किया जाता है यदि पानी आरओ की तकनीक द्वारा साफ़ किया जाए तो पानी में बेक्टेरिया की मात्रा न होने की संभावना बढ़ जाती है घरों में प्रयोग किए जाने वाले आरओ सिस्टम में 220 से 240 पीपीएम युक्त पानी को स्वच्छ कर 25 पीपीएम तक ले आता है।

Mithilesh Patel

After completing B.Tech from NIET and MBA from Cardiff University, Mithilesh Patel did Journalism and now he writes as an independent journalist.

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.