वीडीए का गरजा बुलडोज़र, अमीरचंद पटेल ने कहा खटखटाऊंगा कोर्ट का दरवाजा

वीडीए का गरजा बुलडोज़र, अमीरचंद पटेल ने कहा खटखटाऊंगा कोर्ट का दरवाजा

वाराणसी विकास प्राधिकरण की टीम आज शहर के सारनाथ इलाके में बुलडोजर के साथ बिना ले-आउट स्वीकृत किये बनाई जा रही कालोनियों में पहुंची, जहाँ पर नियमो का हवाला देते हुए जमकर बुलडोजर चलाये गयें। इस पुरे मामले में देश की सीमा पर रक्षा में लगे सैनिको के घरों के एक फूट ऊँची बाउंड्री को भी अवैध बताते हुए धराशाही कर दिया गया और साथ ही क्षेत्र में प्लाटिंग के लिए किये गए बाउंड्री को भी ढहा दिया गया।

आज वीडीए द्वारा की गई करवाई के सम्बंध में वीडीए के जोनल अधिकारी अविनाश कुमार ने बताया कि वाराणसी विकास प्राधिकरण को काफी शिकायते मिल रही थी कि लोग बिना ले-आउट पास करवाये अवैध रूप से कालोनी बना रहे है, उसी क्रम में आज यह अभियान चलाया गया और आगे भी यह अभियान निरंतर चलता रहेगा। वही जब जोनल अधिकारी से पूछा गया कि ये किसकी कॉलोनी है। तो अधिकारी ने तीन चार कॉलोनाइजर का नाम बताया जिसमे से एक अमीर चंद पटेल का नाम विशेष रूप से लिया गया।

हम आपको बता दें कि अमीरचंद पटेल के ऊपर लगातार आरोप लगते रहे हैं लेकिन किसी भी मामले में अमीरचंद पटेल को दोषी नही पाया गया है। गौरतलब हो की अमीरचंद पटेल 2004 में वाराणसी सीट से बसपा के टिकट पे संसदीय चुनाव और 2017 में रोहनिया से निर्दलीय विधायकी का चुनाव लड़ चुके हैं। अमीरचंद पटेल अपने विरोधियों पर हमेशा उनकी छवि धूमिल करने का आरोप लगते रहे हैं।

आज के वीडीए की कार्यवाई और जोनल अधिकारी द्वारा कालोनी के कॉलोनाइजर के रूप में अमीर चंद पटेल का नाम बताए जाने के सवाल पर जब हमने अमीर चंद पटेल से बात की तो उनका कहना था कि ‘मैं कॉलोनाइजर नही हूँ, मेरी फर्म साक्षी इंफ्रासिटी सिर्फ क्रय-विक्रय का काम करती है, हमारी फर्म सिर्फ ब्रोकरी (आम भाषा में दलाली) का काम करती है जिसका शुद्ध रूप से सरकार को टैक्स दिया जाता है। अधिकारियों ने किसी एक को फायदा देने की मंशा से ऐसा किया हैं उनके खिलाफ मैं न्यायालय का दरवाजा खटखटाऊंगा और जिन बड़े अधिकारियों को गुमराह किया जा रहा है, मैं उन लोगो से मिलकर सारी बाते बताने का कोशिश करूंगा कि आखिर कब तक मेरे साथ ऐसा अत्याचार होता रहेगा’।

अमीर चंद पटेल ने आगे कहा कि कहा कि ‘मैं सपा से जुड़ा हूँ और पिछेल कई वर्षों से मुझे कभी भू-माफिया तो कभी कॉलोनाइजर बताया जाता है, विगत कई वर्षों से मेरे विरोधियों द्वारा अपराधियो से कहकर गुंडा टैक्स मंगवाया जाता है, तो कभी मुझे और मेरे बच्चे को जान से मारने की धमकी दी जाती है। जब इन बातों में वे सफल नही होते तो कुछ मीडिया के लोगो द्वारा पैसे का प्रलोभन देकर अधिकारियों को गुमराह करने का काम किया गया’।

अमीरचंद पटेल ने आगे कहा कि ‘बिना पूर्व किसी सूचना के एक तरफा करवाई की गई। जिस जगह पे ये कार्यवाई की गयी वहां पर ज़्यादातर देश की रक्षा में लगे सेना के सिपाही रहते है, और आज उनके बाउंड्री को भी गिरा दिया है’।

अमीर चंद पटेल ने वीडीए पर आरोप लगाते हुए कहा कि ‘आज की करवाई वहां के एक उच्च जाति के कॉलोनाइजर के इशारे पर किया गया है और कुछ मेरे दुश्मनों के इशारे पर सब षड्यंत्र रचकर किया जा रहा है। इन लोगो द्वारा पूर्व में मेरे परिवार में हत्या कराई गई थी अब मेरी भी कभी भी हत्या हो सकती है। और मुझे पिछले पंद्रह वर्षो से भू माफिया कहकर चरितार्थ किया जा रहा है’।

वही वीडीए की आज की करवाई से बड़ा सवाल तो यही उठता है कि आज बिना ले-आउट स्वीकृत प्लाटिंग को तो वीडीए ने ध्वस्त किया लेकिन वीडीए द्वारा बनाई गई कई पुरानी कॉलोनी में जमकर अवैध निर्माण हुआ है जिनमे से प्रमुख रूप से अशोक विहार कालोनी फेज-1, फेज-2, प्रेमचन्द कालोनी, आवास-विकास, लालपुर आदि कई कालोनियों में जमकर लोगो ने अवैध निर्माण करते हुए सारे नियमो को ताख पर रखा है। लेकिन वीडीए लगातार उन कालोनियों को नजरअंदाज करता रहा है।

Mithilesh Patel

After completing B.Tech from NIET and MBA from Cardiff University, Mithilesh Patel did Journalism and now he writes as an independent journalist.

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.