वाराणसी में किया रेलवेकर्मियों ने प्रदर्शन, उच्चाधिकारियों पे लगाए गंभीर आरोप

वाराणसी में किया रेलवेकर्मियों ने प्रदर्शन, उच्चाधिकारियों पे लगाए गंभीर आरोप

वाराणसी: प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी आजकल रोज़ ही सुर्खियों मे बना रहता है पर इस बार कुछ अलग ही हुआ है रेलवे कर्मचारियों ने रेलवे में व्याप्त भ्रस्टाचार और कर्मचारियों के उत्पीड़न को लेकर मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय वाराणसी के समक्ष एनई रेलवे मेंस कांग्रेस द्वारा धरना प्रदर्शन व आम सभा का आयोजन किया गया इसके उपरांत संगठन के कर्मचारी नेताओ ने रेल प्रशासन को अपनी मांगो के समर्थन में पत्रक सौपा।

कर्मचारियों ने मांग की वेतन में हो रही है विसंगतियों में सुधार हो और रेलवे प्रशासन को चेतवानी देते हुए कहा की हमारी लंबित मागो को तत्काल पूरा किया जाये और सातवे वेतन आयोग की विसंगतियों में सुधार किया जाये।

अखिलेश पांडेय ने कहा की मंडल रेल चिकत्सालय की चिकत्सा सुविधा काफी जर्जर हो चुकी है। ओपीडी में वरिष्ठ चिकित्सक ड्यूटी नहीं कर रहे है जिसमे रोगी कर्मचारियों के इलाज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

बंद हो कर्मचारियों का शोषण

इन्ही मुद्दों पर अखिलेश पांडेय ने कहा की ड्राइवरों और गार्डो को उचित आराम भी नहीं दिया जा रहा है जिससे उनके स्वास्थ पे प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है साथ ही साथ उन्होंने कहा की ट्रैकमेंटरों का उत्‍पीड़न चरमसीमा पर पहुंच चूका है उच्चाधिकारियों द्वारा ट्रकमेंटरो से बंगले पर निजी काम करवाए जाते है जो की रेलवे बोर्ड के निर्देशों के बिलकुल खिलाफ है।

वही मंडल अध्य्क्ष मनोज कुमार ने सभा में कहा की 12 घंटे अमानवीय ड्यूटी रोस्टर को तत्काल बंद किया जाये। कर्मचारी नेताओ के माँग की लोको पायलट गॉर्ड व सेफ्टी के सीधे-सीधे जुड़े कर्मचारियों से अंडर रेस्ट कार्य न लिया जाये मनोज कुमार ने कहा की कोचिंग डेपो मंडुआडीह एवं छपरा में अनाधृकित व्यक्ति की आवाजाही बंद हो इसके वजह से महिला कर्मचारियों की सुरक्षा खतरे में बनी रहती है।

गोरखपुर मुख्यालय से आये कर्मचारी नेता विजयनाथ ठाकुर ने सभा को सम्बोधित करते हुए मांग किया की लारसजेस के तरह रेलकर्मियों के आश्रितों को नौकरी दी जाये।

ये रही संगठन की मुख्य मांगे

1: मंडल रेल चिकत्सालय की स्थिति को सुधारा जाये

2: उच्चाधिकारियों द्वारा कर्मचरियो से निजी काम लेना बंद हो

3: वेतन में जारी विसंगतियों को दूर किया जाये

4: गॉर्ड और ड्राइवर के कार्यावधि को काम किया जाये

5: कर्मचारियों को रिस्कअलावेंस दिया जाये

6: खाली चल रहे पदों को जल्द से जल्द भरा जाये

7: मंडल रेल चिकत्सालय में जीवन रक्षक उच्च गुणवत्ता वाली दवाओं की आपूर्ति की जाये

8: कर्मचारियों को ओवरटाइम का भुगतान किया जाये

9: आश्रितों को नौकरी दी जाये

10: रेलवे का निजीकरण किसी हाल में नहीं हो

11: रेलकर्मियों को सुरक्षा दी जाये

Mithilesh Patel

After completing B.Tech from NIET and MBA from Cardiff University, Mithilesh Patel did Journalism and now he writes as an independent journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.