इस तकनीक से अब 5 घंटे की चार्ज करने पर 500 घंटे तक चल सकेगा आपका स्मार्टफोन

इस तकनीक से अब 5 घंटे की चार्ज करने पर 500 घंटे तक चल सकेगा आपका स्मार्टफोन

बैटरी बैकअप बढ़ाने को लेकर स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों की तरफ से काफी ध्यान दिया जा रहा है। फोन में 5000 एमएएच से ज्यादा तक की बैटरी दी जा रही हैं। यहा तक की कई बदलाव बैटरी की बैकअप बढ़ाने के लिए फोन के हार्डवेयर्स में किये जा रहे हैं। ऐसे में अमेरिका के मिसौरी विश्वविद्यालय में एक ऐसी तकनीक का अविष्कार किया गया हैं जिसकी मदद से स्मार्टफोन की बैटरी को 100 फीसदी से और अधिक समय तक बढ़ाया जा सकता है।

खोजकर्ताओं ने एक ऐसा मैगनेटिक डिवाइस तैयार किया हैं। जो ‘हनीकॉम्ब’ की जाली बनाती है। शोधकर्ताओं के मुताबिक एम्पलीफायर और सेमिकंडक्टर डायोड ज्यादातर सिलिकॉन या जर्मेनियम से बने होते हैं। ये चीजे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के एक खास अंग है। इस तकनीक में बिजली एक ही दिशा की तरफ बढ़ती है, इस तकनीक का नाम यूनिडायरेक्शनल हैं। जहां मैग्नेटिक डायोड ट्रांजिस्टर और एम्पलीफायरों बिजली की पॉवर को तेज कर देते हैं। जिसकी वजह से लॉस घट जाता है।

5जी स्मार्टफोन साल 2021 तक 10 करोड़ यूजर्स के पास होगा, इन 4 देशों ने की तैयारी पूरी।

दुनियाभर में 5जी स्मार्टफोन की शिपमेंट साल 2021 तक 255 फीसदी तक बढ़ जाएगी। रिपोर्ट में दावा है कि 5जी स्मार्टफोन का ये आंकड़ा 2021 तक 11 करोड़ यूनिट को छू लेगा। 5 जी स्मार्टफोन के इंफ्रास्ट्रक्चर में अमेरिका, चीन, दक्षिण कोरिया और जापान दुनिया के दूसरे देशों में 5जी तकनीक को लेकर काम जारी है। रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि आने वाले समय में 5जी नेटवर्क और स्मार्टफोन के व्यापार में अमेरिका, चीन, दक्षिण कोरिया और जापान प्रमुख देशों में शामिल हो सकते हैं।

रिसर्च डायरेक्टर पीटर रिचर्डसन के मुताबिक यूरोप 5जी स्मार्टफोन के व्यापार में हाथ लगाने के बजाए इंतजार करना पसंद करेगा। उन्होंने ये भी कहा 5जी स्मार्टफोन का व्यापार धीमे गति से बढ़ेगा। ये भी पीटर रिचर्डसन ने कहा कि जैसे ही 5 जी इंफ्रस्ट्रक्चर मजबूत होगा, वैसे ही 5जी व्यापार की गति तेजी से बढ़ेगी।

Mithilesh Patel

After completing B.Tech from NIET and MBA from Cardiff University, Mithilesh Patel did Journalism and now he writes as an independent journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.